Latest Jobs :
Recently Added

Spirit of Life and Death - आत्मा का जीवन और मृत्यु


जब देहधारी जीव को किसी घातक हथियार से आघात पहुचाया जाता है तो यह समझ लेना चाहिए कि शरीर के भीतर जो जीवात्मा हैं वो नहीं मरी।  आत्मा इतनी सूक्ष्म होती है कि इसे किसी तरह के भौतिक हथियार से मार पाना असंभव है।  न ही जीवात्मा अपने आध्यात्मिक स्वरुप के कारण वध्य है।  जिसे मारा जाता है या मरा हुआ समझ लिया जाता है।  वह केवल शरीर है।  
{[['']]}

Soul and body - आत्मा और शरीर


{[['']]}

Darshan Prabhu Tumhara

{[['']]}

Soul and body - आत्मा और जिस्म


{[['']]}




Follow NANGLI SAHIB

 
Desing and Developed By : INFOVISION MEDIA
Copyright © 2011. Shri Nangli Sahib Darbar (Bhajan and Satsang) - All Rights Reserved
Supported by WWW.BAZAAR99.COM
Proudly powered by WWW.REDPC.IN