My Satguru, My Power


यह जिस्म तो किराये का घर है...
एक दिन खाली करना पड़ेगा...।
सांसे हो जाएँगी जब
हमारी पूरी यहा...
रूह को तन से अलविदा केहना पड़ेगा...।।
वक्त नही है तो बच जायेगा गोली से
भी
समय आने पर ठोकर से मरना पड़ेगा...।
मौत कोई रिश्वत
लेती नही कभी...
सारी दौलत को छोंड़ के जाना पड़ेगा...।।
ना डर यूँ धूल के जरा से एहसास से तू...
एक दिन सबको मिट्टी में मिलना पड़ेगा...।
सब याद करे दुनिया से जाने के बाद...
दूसरों के लिए भी थोडा जीना पड़ेगा...।।
मत कर गुरुर किसी भी बात का ए दोस्त...
तेरा क्या है... क्या साथ लेके जाना पड़ेगा...।
इन हाथो से करोड़ो कमा ले भले तू यहा...
खाली हाथ आया खाली हाथ जाना पड़ेगा...।
ना भर यूँ जेबें
अपनी बेईमानी की दौलत से...
कफ़न को बगैर जेब के ही ओढ़ना पड़ेगा...।।
येह ना सोंच तेरे बगैर कुछ नहीं होगा यहा .... ।
रोज़ यहा किसी को "आना"
तो किसी को "जाना" पड़ेगा...।।

Koi Prarthana Kabhi Adhuri Nahi Hoti Hai..
Bhakti Me Kabhi Doori Nahi Hoti Hai..
Jinke Dil Me " Satguru " Rehte Ho,,
Unke Liye To Dhadken Bhi Zaruri Nahi Hoti Hai...
Share on Google Plus
Shri Nangli Sahib Darbar