दृष्टिकोण और प्रसन्नता - Approach and happiness


संसार में दुःख क्या है और सुख क्या है?  इसकी परिभाषा कर सकना कठिन है।  वस्तुतः यहाँ न तो कुछ सुख है और न कुछ दुःख। घटनाएँ अपने ढंग से घटित होती रहती हैं और वस्तुएँ अपने तरीके से बदलती रहती है। आने और जाने का, लाभ और हानि का परिवर्तन यहाँ अनवरत रूप से चल रहा है।  जो वस्तु अभी जिस रूप में है, अगले ही क्षणों वह वैसी न रह जाएगी।  तब जिस प्रकार उस क्षण उसे सुखद माना जा रहा था, वैसा कुछ समय बाद न माना जा सकेगा।  तब यह कैसे कहा जाये कि वह वस्तु या स्थिति सुख रूप है या दुःख रूप।

प्रातःकाल का सूर्य सुहावना लगता है और उसकी धूप तापने को जी करता है, किन्तु कुछ समय बाद दोपहर की कड़ी धूप और कड़ी चमक कष्टकारक लगती है और उससे बचने के लिए छाया तलाश करनी पड़ती है। तब कैसे कहा जाए कि सूर्य और उसकी धूप सुखद है या दुःखद।  यह परिस्थितियों पर निर्भर है।  सापेक्ष है, ठण्ड की स्थिति में सूर्य प्रिय है और गर्मी में अप्रिय।

भूख में भोजन की उत्कट लालसा रहती है।  रूखा-सूखा भी स्वादिष्ट लगता है।  किंतु पेट भरा होने अथवा रुग्ण रहने की दशा में स्वादिष्ट भोजन भी अरुचिकर लगता है और उसकी ओर देखने को भी जी नहीं करता। भोजन अपने आप में न स्वादिष्ट है और न अस्वादिष्ट, वह एक पदार्थ मात्र है।  भूख के अनुरूप वह कभी प्रिय लगता है, कभी अप्रिय।  यदि भोजन की अपनी कुछ विशेषता होती तो वह सदा एक जैसी ही बनी रहती।

हम धनी है या निर्धन, इसका कोई पैमाना नहीं।  कितना धन होने पर किसी को धनी कहा जाए और कितनी मात्रा को निर्धन की परिधि में लाया जाए, इसका कोई मापदंड नहीं बन सकता।  जब हम अपनी तुलना किसी साधन संपन्न धनी के साथ करते हैं तो पाते हैं कि अपनी स्थिति निधनों जैसी दयनीय है।  किंतु यदि निर्धनों और अभावग्रस्तों के साथ अपनी तुलना लगें तो प्रतीत होगा कि हम कितने अधिक साधन-संपन्न, धनवान और भाग्यवान हैं।  जिसके लिए दुसरे लोग बुरी तरह तरसते हैं, वे साधन अपने पास कितनी बड़ी मात्रा में मौजूद हैं।  इस तुलनाक्रम में हेर-फेर होते ही एक क्षण में धनी अपने को निर्धन और निर्धन अपने को धनवान  मानने लग सकता है।

बलवान पहलवान की तुलना में अपनी दुर्बल काया दुर्भाग्यपूर्ण है, सुंदरों की तुलना में अपनी कुरूपता अभिशाप है, किंतु यदि अपंग एवं असाध्य रोगग्रस्त की और अपनी स्थिति का अध्ययन करें तो पता चलेगा कि जो कुछ मिला हुआ है, वह भी सुख मानने और गर्व करने के लिए पर्याप्त है। 
Share on Google Plus
Shri Nangli Sahib Darbar